Thursday, April 30, 2020

जादूई पेड़ की प्रेरक बच्चो की हिंदी कहानी । jadui ped moral stories in hindi for kids


जादूई पेड़ की प्रेरक बच्चो की हिंदी कहानी , जादुई कहानी सुनने हम सभी को पसंद होता है । हम अक्सर रोज मर्रा की ज़िंदगी मे जादुई चीज़े देखकते रहते है । बच्चो को जादू की कहानियां सुन्ना बहुत पसदं होता है, इसलिए सभी बच्चे को जफी चीजो से बहुत लगाव होता है ।

जादूई पेड़ की प्रेरक बच्चो की हिंदी कहानी । jadui ped moral stories in hindi for kids
जादूई पेड़

 यह कहानी है एक जादुई पेड़ की, एक ऐसा जादुई पेड़ जो सभी की मनोकामना पूरा करता था । जब किसी चीज़ से लगाव हो जाये तो, वो उसे कजोदन बहुत मुश्किल हो जाता है ।

जादूई पेड़ की प्रेरक बच्चो की हिंदी कहानी 



एक बार की बात है, एक गाँव में सोहन नाम का 10 साल का लड़का रहता था । सोहन पढ़ने लिखने में अच्छा नही था, और वह कोई भी वाम सही से नही कर पाता था । बहुत  कोशिश करने के बाद भी सोहन कोई भी काम सही से नही कर पाता था । खेल कूद में में सहज सबसे पीछे रहता था, उसके दोस्त भी उसे बहुत परेशान करते थे ।



घर में भी सोहन को उसके मा से हमेशा डाट पड़ती थी, सोहन बेचारा बहुत अकेला हो गया था । उससे कोई दोस्ती नही करता और उसे लगता था कि उससे कोई भी प्यार नही करता । एक दिन माँ कर बहुत डाटने पर सोहन रोते हुए जंगल में भाग जाता है ।



जंगल मे जाकर सोहन एक बड़े से बरगद के जादुई पेड़ के नीचे बैठ जाता है । तभी बरगद का जादुई पेड़ सोहन से बोलता है कि तुम क्यों रो रहे हो? पेड़ की आवाज सुनकर सूजन दर जाता है, तभी सोहन पेड़ को बताता है कि मेरा कोई दोस्त नाही है मैं यहां अकेला हुन मुझसे कोई प्यार भी नही करता सब मुझे डांटते रहते है ।


जादुई पेड़ सोहन को बताता है कि मै तुम्हारा दोस्त बनूँगा । तभी से सोहन हर दिन जादुई पेड़ से मिलने जाता । जादुई पेड़ सोहन को बहुत अच्छी बाते और हिंदी कहानिया सुनता । सोहन जादुई पेड़ की बातों को समझने लगा और खुद को बेहतर और अच्छा बनाने में जुट गया । देखते ही देखते सोहन बहुत अच्छा बन गया।



सभी चीज़ों में आंच बन गया । जादुई वेद की बाते सुनकर सोहन एक अच्छा बच्चा बन गया एक ऐसा बच्चा जो लोगो को ओएसन्द आये और जो दूसरे का सम्मान करें ।



जादुई पेड़ ने सोहन को बताया जीवन मे अगर तुम सफल बनना कहते हो तो हमेशा सिखाते रहो, कभी रुको नही क्योंकि तुम जो आज सिखिगे काल यही तुम्हारे काम आएगा । जिस दिन तुमने सीखना बैंड कर दिया उस दिन तुम नकारे बन जाओगे ।



सोहन जादुई पेड़ को पूछता है तुम सभी पेड़ो से अलग कैसे हो, तुम बाते कर सकते हो और दूसरे बाते नही कर सकते । जफुई पेड़ बोलता है मैं तुम्हारा ही अंश हूँ। मैं तुम्हारे भीतर छुपा हुआ था । मैं इस पेड़  के सहारे तुम्हारी सहायता करना चाहता था। और मैं तुम्हे एक सफल बाने में सफल हुआ ।



सभी के अंदर एक छुपी हुई शक्ति होती है, जिसे हम कभी बाहर ही नही आने देते जिस दिन हम अपनी शक्ति को बाहर लेके आएंगे उस दिन हम दूसरे से बदल जाएंगे और एक नए इंसान का रूप में होंगे ।



सीख: जादूई पेड़ की प्रेरक बच्चो की हिंदी कहानी से हमे यह सिख मिलती है अगर हम किध को दूसरों से बेहतर बनाना है टी हमे हमेशा नई चीज़े सीखने का प्रयत्न करना चाहिए । जो हमेशा सिखत रहता है, व आगे बढ़ता है नही तो हमेशा के लिए पीछे ही राज जाता है ।

0 Please Share a Your Opinion.:

please do not enter any spam link